Sunday, 29 December 2013

विदेश का खोखला आकर्षण

आज के इस आधुनिक युग में फर्राटेदार अँग्रेजी बोलता बच्चा सभी को बहुत लुभाता है। विदेश में शिक्षा ग्रहण करना भारत में हमेशा से ही बड़े गर्व की बात समझी जाती रही है। अब भी ऐसा ही प्रभाव व्‍याप्‍त है। पहले केवल उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए ही बच्चों को विदेश भेजा जाता था, लेकिन आज के अभिभावक ये चाहते हैं कि उनके बच्‍चे की प्रारंभिक और उच्च शिक्षा विदेश में ही हो। इसमें माता-पिता को ज्यादा गर्व होता है। जबकि वास्‍तविकता कुछ और ही है। ...

आगे पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें http://mhare-anubhav.in/?p=355 और मुझे अपनी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया से अनुग्रहित करें। धन्यवाद...