Friday, 14 November 2014

यह कैसा बाल दिवस !

कितना कुछ है मन के अंदर इस विषय पर कहने को, किसी से अपनी मन की बात कहने को किन्तु हर किसी को नहीं बल्कि किसी ऐसे इंसान को जो वास्तव में इंसान कहलाने लायक हो। जिसके अन्तर्मन में अंश मात्र ही सही मगर इंसानियत अब भी कायम हो। वर्तमान हालातों को देखते हुए तो ऐसा ही लगता है कि बहुत मुश्किल है ऐसे किसी इंसान का मिलना। लेकिन ऐसा नहीं है कि दुनिया में सभी बुरे हैं। अच्छे इंसानों से भी दुनिया भरी पड़ी है। लेकिन समाचार पत्रों में जो देखा पढ़ा और जो रोज़ ही सुनते है उससे तो ऐसा ही लगता है कि शायद इस दुनिया में अच्छे लोग दिन प्रतिदिन घटते ही जा रहे हैं। क्यूंकि आज की तारीख में अच्छा बनने के लिए बहुत पापड़ बेलने पड़ते है। यूं ही किसी को (नोबल प्राइज़) नहीं मिल जाता। वरना आज हर कोई (कैलाश सत्यार्थी) ही होता। बाल मजदूरों के लिए उन्होंने जो किया वो वाक़ई कबीले तारीफ़ है। वरना गलियों में पलने-बढ़ने वाला बचपन क्या जाने बाल दिवस किस चिड़िया का नाम है।

आगे पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें - http://mhare-anubhav.in/?p=546

धन्यवाद!