Saturday, 18 November 2017

प्रद्युम्न ह्त्या कांड (बच्चे तो आखिर बच्चे ही होते हैं)


बच्चे तो आखिर बच्चे ही होते हैं। कुछ भी हो एक इंसान होने के नाते और उस से भी बढ़कर एक माँ होने के नाते ऐसा सब कुछ देखकर दुख तो होता ही है। प्रद्युम्न हत्याकांड के विषय में तो आप सभी जानते ही होंगे। इस विषय से भला कौन अछूता है ? 8 सितंबर 2017 हरियाणा के एक स्कूल में 7 वर्ष के एक मासूम बच्चे (प्रद्युम्न) की स्कूल के शौचालय में बड़ी बेरहमी से गला रेत कर हत्या कर दी गयी थी। जिसका जिम्मेदार पहले बस का कंडक्टर बताया गया था। किन्तु पुलिस की इस कार्यवाही से असंतुष अभिभावकों की मांग पर यह केस सी.बी.आई को सौंप दिया गया और फिर सी.बी.आई द्वारा जांच बिठाये जाने पर उसी स्कूल के ग्यारवी कक्षा में पढ़ रहे एक छात्र को दोषी करार देते हुए पुलिस ने हिरासत में ले लिए है। रोज़ एक बड़ी खबर के रूप में ऐसा ही कुछ लिखा आता है कि प्रद्युम्न हत्या कांड में एक नया खुलासा ग्यारवी के छात्र ने अपना अपराध स्वीकार किया कि परीक्षा और पी.टी.एम (Parents teacher meeting) के डर से उसने स्कूल बंद करने हेतु यह सब किया प्रद्युम्न को मारना उसका उदेश्य नहीं था। उस दिन यदि प्रद्युम्न वहाँ न होता, तो कोई और होता। किन्तु उस दिन किसी न किसी छात्र का मरना तो तय था। 

यह कैसी मानसिकता है आज कल कि नयी पीढ़ी की प्रद्युम्न हत्या कांड अपने आप में बहुत से सवाल उठता है। लोग कहते है प्रतियोगिता का ज़माना है, आगे बढ़ना उतना ही ज़रूरी है जितना जीने के लिए सांस लेना। लेकिन कोई यह क्यूँ नहीं कहता कि प्रतियोगिता का दौर तो हमेशा से रहा है। लेकिन सवाल यह उठता है कि आज की पीढ़ी में इतना आक्रोश क्यूँ ? अपने लोगों में अर्थात अपने यार दोस्तों में अपनी बात को सही सिद्ध करने के लिए व्यक्ति किसी की जान ले लेने पर अमादा हो जाये। परीक्षाएँ पहले भी होती थी। प्रतियोगिता का दौर तभी था। बल्कि पहले तो बहुत ज्यादा था जब बच्चों के पास महज डॉक्टर, इंजीनियर, वकील बहुत हुआ तो सरकारी कर्मचारी बनाना सर्वाधिक महत्वपूर्ण हुआ करता था। इस के अतिरिक्त तो कोई और विकल्प सोचा भी नहीं जा सकता था। परंतु आज तो ऐसा नहीं है। बल्कि आज तो सफलतापूर्वक जीवन जीने के इतने संसाधन हो गए है कि मेरे जैसे लोगों तो बहुत से विषयों के बारे में ठीक तरह से पूरी जानकारी भी नहीं है। फिर आज भी क्यूँ छात्रों/छात्राओं का जीवन अंकों में सिमटी ज़िंदगी की तरह हो गया है। अंक नहीं तो मानो जीवन नहीं, अंक न हुए मानो जल हो गया। जल ही जीवन है से बात पलट कर अंक ही जीवन है हो गयी है। 

हम भी उसी दौर से गुज़रे हैं दोस्तों में शान दिखाने की खातिर हमने भी कइयों बार बड़ी बड़ी डींगे हाँकी हैं अपने आपको विरला दिखाया है। कइयों बार उनके सामने झूठे भी साबित हुए हैं। लेकिन इस सब का असर कभी ऐसा नहीं पड़ा कि दोस्त क्या कहेंगे क्या सोचेंगे को सोच सोचकर हम अपने आप को सही सिद्ध करने के लिए अपराध की राह पर चल पड़े हों। बल्कि हम तो उल्टा ही सोचते थे चार दिन बोलेंगे लोग फिर सब सामान्य हो जाएगा दोस्त नहीं चिढ़ाएंगे तो फिर कौन चिढ़ाएगा। फिर आजकल की पीढ़ी अपने आप को हर पल इतना कमजोर और असुरक्षित क्यूँ महसूस करती है ? 

क्या सचमुच आज भी पढ़ाई का इतना दबाव महसूस करते हैं बच्चे ? या एकल परिवार के इकलौते बच्चे होने के कारण आसानी से बिगड़ जाते हैं बच्चे है ? जिसके चलते उन्हें हर पल यह लगता है कि सारी दुनिया उनके बाप की जागीर है और वह जैसा चाहेंगे वैसा करेंगे और कोई उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकता। और जब कभी कोई उनके खिलाफ जाकर उन्हें आईना दिखाने की कोशिश करता है तो वही उनका सबसे बड़ा दुश्मन बन जाता है और उसकी मृत्यु ही उनका एकमात्र लक्ष्य बन जाता है। बड़े बाप के बच्चों का ऐसा रवैया जब तक देखने सुनने को मिल जया करता है। जैसे किसी मंत्री या या बड़े और ऊंचे पद वाले किसी व्यक्ति की संतान दूसरों को अपने पाँव की जुती समझती है। किन्तु हम मध्यम वर्गीय परिवार के बच्चों में ऐसी ठसक कम ही देखने को मिलती है। फिर क्या वजह हो सकती है इस तरह के अपराधों के पीछे? मानसिक रोग के आगे कहीं न कहीं पढ़ाई में अच्छे अंक लाने का पारिवारिक दबाव, अकेलापन, जीवन के प्रति नीरसता, उदासीनता पैदा करता है जो बड़ी ही सहजता से किसी को भी अवसाद में डाल देता है विशेष रूप से महानगरों में तो यह बहुत ही आम बात है। 

खैर बात हो रही है प्रद्युम्न की उसके हत्यारे ने कहा की मुझे कुछ समझ नहीं आया मेरी आँखों के सामने अंधेरा छा गया और मैंने बस उसे मार दिया। उस दिन यदि वह वहाँ ना होता तो कोई और होता मुझे तो स्कूल बंद करने के लिए ऐसा कुछ बड़ा कांड करना था जिस से महीने दो महीने के लिए स्कूल बंद हो जाये और परीक्षा रद्द हो जाये। हत्यारे के बयान से लगता है कि पढ़ाई में कमजोर होने की वजह से वह स्कूल बंद करवा देना चाहता था। ऐसे ही उसके कुछ सहपाठी भी परीक्षा से बचना चाहते है। जिन्हें अपनी ठसक दिखने के लिए हत्यारे ने जोश-जोश में कह दिया था तुम सब चिंता न करो कुछ ही दिनों में स्कूल बंद हो जाएगा। 

अपनी बात को सच साबित करने के लिए अपराधी ने इतना सब सोच लिया और वारदात को बिना किसी डर के अंजाम भी दे दिया। उसके बाद भी चेहरे पर एक शिकन तक नहीं आई ऐसा कैसे हो सकता है मैं तो यही सोच-सोचकर हैरान हूँ। ग्यारवीं कक्षा का छात्र इतना भी बड़ा नहीं होता कि किसी मंजे हुए अपराधी की तरह वारदात को अंजाम देने के बाद शांति से रह सके। और यह अपराधी तो दो महीनो तक शांत बैठा रहा। कैसे ? उसके अंतर मन और उसकी आत्मा ने उसे कैसे नहीं झँझोड़ा। पता नहीं इस घटना के विषय में मिल रही जानकारी में कितना सच और कितना झूठ छिपा है लेकिन कुछ तो ऐसा है जो नहीं होना चाहिए जो बार सोचने पर विवश करता है कि ऐसी क्या वजह हो सकती है। परीक्षा के पूर्व परिणामों को देखते हुए तो उस अपराधी के माता-पिता को भी उसके परिणाम के विषय में आभास होगा ही फिर पी.टी.एम से ऐसा क्या डर था जिसके कारण वह स्कूल बंद करवा देना चाहता था। 

जब एक झूठ को छिपाने के लिए सौ झूठ बोले जाते हैं तब व्यक्ति कब धीरे से अपराधी बन जाता है यह स्वयं उस व्यक्ति को भी समझ नहीं आता। शायद इस बच्चे के साथ भी ऐसा ही कुछ हुआ होगा और सजा मिली मासूम प्रद्युम्न को, आज बाल दिवस है और मुझे न जाने क्यूँ प्रद्युम्न और और उस अपराधी बालक की बदनसीब माओं का रह-रहकर ख्याल आ रहा है कि आज उन्हें कैसा लग रहा होगा दोनों ही आज अपने जीवन से खुद को हताश और निराश महसूस कर रही होंगी उनका जीवन अब न जाने कैसे कटेगा जिस तरह हर माँ के लिए बचे तो बच्चे ही होते हैं वैसे ही हर माँ के लिए एक अन्य बच्चे की माँ भी, माँ ही होती हैं। जाने वाला तो चला गया। लेकिन इस ग्यारवीं कक्षा के छात्र का जीवन हमेशा के लिए तबाह हो गया। जाने उसे इस बात का एहसास भी है या नहीं। पता नहीं अपराधी कौन है लेकिन एक अपराध ने तीन परिवारों की ज़िंदगी हमेशा के लिए बिगाड़ दी (प्रद्युम्न का परिवार)(उस ग्यारवीं कक्षा के छात्र का परिवार जिसने हत्या की) साथ-साथ उस (बस कंडेक्टर का परिवार जिसे हरियाणा पुलिस ने गिरफ्तार कर जुल्म कुबूल करवाया था। अब उस गरीब को कहीं काम नहीं मिलेगा क्यूंकि उस पर कोई विश्वास नहीं करेगा। भले ही वह बाइज्ज़त बरी क्यूँ न हो जाए। 

ईश्वर प्रद्युम्न के माता-पिता को यह दुख सहने की शक्ति प्रदान करे।