Sunday, 16 February 2014

ये कहाँ आ गए हम…

फरवरी का महीना यानी हमारे परिवार के लिए वैवाहिक वर्षगाँठ का महीना है। इस महीने हमारे घर के सभी जोडों की शादी की सालगिरह होती है। कल १७  फरवरी को मेरी भी है। लेकिन आज इतने सालों बाद जब पीछे मुड़कर देखो तो ऐसा लगता है।
“ये कहाँ आ गए हम, यूँ ही साथ-साथ चलते”
लेकिन ....आगे पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें http://mhare-anubhav.in/?p=424  धन्यवाद।  

Wednesday, 5 February 2014

आने वाले वक्त का पूर्व संकेत देती है ज़िंदगी ...

आज सुबह कपडों की अलमारी जमाते वक्त अचानक ही एक पुराने कोट पर नज़र जा पड़ी। जैसे ही उसे उठाया तो उसकी जेब से चंद सिक्के लुढ़ककर ज़मीन पर जा गिरे। कहने को तो वो सिक्के ही थे मगर उनके बिखराव ने मेरे मानस पटल पर ना जाने कितनी बीती स्मृतियों के रंग बिखेर दिये। सिक्कों को तो मैंने अपने हाथों से उठा लिया। मगर उन यादों को मेरी पलकों ने चुना और मेरी नज़र जाकर उस लाल कालीन पर अटक गयी।
आगे पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें ... http://mhare-anubhav.in/?p=417 धन्यवाद